Mahashivratri: भगवान शिव के साथ क्यों विराजते है Nandi, जानिए रहस्य | Boldsky

BoldskyPublished: July 25, 2018
Published: July 25, 2018

Lord Shiva's gate-guardian deity Nandi is considered as the chief guru of eight disciples. According to Shaiva tradition, Nandi is described as the son of the sage Shilada. Later, Nandi grew as an ardent devotee of Lord Shiva and he did penance to become the gate-keeper of the Lord Shiva as well as his mount. Find out the mysterious story behind the Lord Shiva's associaion with Nandi here in this video.

विश्व में भगवान शिव को समर्पित किसी भी धार्मिक स्थल में उनकी प्रतिमा के साथ ही विराजते है बैल नंदी.. पौराणिक धर्मग्रंथों के आधार पर नंदी बैल शिव के वाहन है और उनके सभी गणों में सर्वोच्च स्थान पर विराजते है..मंदिर में आए भक्त भगवान शिव के दर्शन के साथ ही नंदी बैल के भी दर्शन करते है.. लेकिन,क्या आपने कभी सोचा है कि किन परिस्थितियों में इन दोनों का मिलन हुआ, किन परिस्थितियों में एक सामान्य सा युवक बैल के रूप में दिखने लगा और किन परिस्थितियों में नंदी, शिव को परम प्रिय हो गए, चलिए हम आपको बताते हैं नंदी बैल के आध्यात्मिक रहस्य के बारे में..
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------

Subscribe to Boldsky Channel for latest updates.

https://www.youtube.com/channel/UCp0PDmU9L_rqiD4nDH-P2Tg

Follow us on Twitter
https://twitter.com/boldskyliving

Like us on Facebook
https://www.facebook.com/boldsky.com/

Join us on Google Plus: https://plus.google.com/+Boldsky/posts

Download App: https://play.google.com/store/apps/details?id=in.oneindia.android.tamilapp

Be the first to suggest a tag

    Comments

    0 comments